Hindi-Short-Stories-for-class-1

Hindi Short Stories for Class 1,2,3 – बच्चो की कहानिया

Hindi Short Stories for Class 1,2,3 – बच्चो की कहानिया

Hindi Short Stories for Class 1,2,3. Best educational Hindi Short Stories for kids. Kids are more interested in listening and reading these short stories as compared to books. These stories will be helpful for kids as well as for teachers who are searching for new stories. We hope that you will love reading our stories and for more you can check the stories section of our website. Don’t forget to share it on your social media profiles and do comment If you find these stories interesting and helpful.

 

दो सिर वाला तोता

(Hindi Short Stories for Class 1)

hindi-short-stories-for-class-1
दो सिर वाला तोता

 

एक जंगल में बहुत सारे पशु पक्षी रहते थे|उन्ही में एक अनोखा पक्षी भी रहता था|

जिसके दो सिर और एक शरीर था, उस पक्षी का नाम तोता था|

सभी पशु पक्षी उस पक्षी को बहुत चिढाते थे|

जानवरों के दुश वेव्हार से एक सिर बहुत दुखी रहता था, पर दुसरे सिर को कोई फरक नही पड़ता था|

अलग अलग विचारों के कारण दोनों सिरों में अक्सर झगडा हुआ करता था|

दोनों ही एक दुसरे को बिलकुल पसंद नही करते थे|

एक सिर को अगर कुछ खाने को मिलता तो वो अपने दुसरे सिर को नही देता|

ऐसे ही अगर दुसरे को कुछ मिलता तो वो अपने पाहिले सिर को नही देता|

एक दिन पाहिले सिर को एक बहुत मीठा फल मिला, दुसरे सिर के मांगने  पर उसने मना कर दिया|

क्रोध में आकर दुसरे सिर ने एक जहरीला फल खालिया, ताकि वो पाहिले सिर से बदला ले सके|

जहरीला फल ज्यादा खाने की वजह से दो सिर वाले दोनों ही तोते मर गए|

 

सिख – “हमें कभी स्वार्थी नही बन्ना चाहिए और एकता में भरोसा रखना चाहिए “|

क्युकी स्वार्थ का फल हमेशा नुक्सान दायक ही होता है| और एकता का बल बहुत अधिक होता है”|

 

घमंडी मोर

(Hindi Short Stories for Class 2)

new-moral-stories-in-hindi
घमंडी मोर

 

 

एक जंगल में एक घमंडी मोर रहता था| वो सभी जानवरों को अपने आगे कुछ नही समझता था|

वो सभी जानवरों का हमेशा मजाक उडाता रहता था, और अपनी ही तारीफ करता रहता था|

एक दिन उस जंगल में एक हंस आया|उसी समय वह घमंडी मोर आजाता है|

मोर हंस से बोलता है कि “क्या तुम मेरे जैसा नाच सकते हो ” हंस समझ चूका था की ये बहुत घमंडी मोर है|

हंस ने मोर से कहा की मै तुम्हारी तरह नाच तो नही सकता हु पर क्या तुम मेरे से तेज उड़ सकते हो|

मोर ने थोडा सोचा और तेज उड़ने के लिए हाँ बोल दिया| तेज उड़ने की रेस में हंस ने घमंडी मोर को हरा दिया|

हंस ने घमंडी मोर को समझाते हुए कहा की “सब का अपना अपना हुनर होती है,

और हमें अपने उस हुनर पे कभी घमंड नही करना चाहिए|

 

सिख – “अपने अनोखे गुणों द्वारा कभी किसी को निचा नही दिखाना चाहिए”|

 चालाक लोमड़ी

(Hindi Short Stories for Class 3

hindi short-stories-with-pictures
चालाक लोमड़ी

 

एक लोमड़ी बहुत भूखी थी| भोजन की खोल में वह सारे जंगल में इधर-उधर घुमने लगी|

भोजन ना मिलने के कारन वह गर्मी और भूख से परेशान होकर एक पेड़ के निचे बैठ गई|

अचानक उसकी नज़र एक पेड़ पैर गई| उस पेड़ पर एक कबूतर  बैठा था|

उसके मुहमे एक रोटी का टुकड़ा था| कबूतर के पास रोटी का टुकड़ा देख कर लोमड़ी के मुह में पानी आगया|

और वह रोटी को खाने के उपाए धुनने लगी|

उसने कबूतर से कहा की भाई कबूतर  “सुना है की आप बहुत अच्चा गाना गाते हो”|

मुझे भी एक गाना गाके सुना सकते हो| कबूतर अपनी प्रसंशा सुनकर बहुत खुश हुआ|

वो लोमड़ी की बातो में आगया और जैसे ही उसने गाना गाने के लिए मुह खुला,

उसके मुह से रोटी का टुकरा निचे गिर गया|

लोमड़ी ने झट से उस टुकड़े को उठाया और वहां से भाग गई|

अब कबूतर अपनी मुर्खता पर पचता रहा था|

 

सिख – “झुठी तारीफ करने वालों से बच कर रहना चाहिए”|

 

लालची दूधवाला

(Hindi Short Stories for Class 1 and 2)

hindi-story-with-props-for-class-2
लालची दूधवाला

 

एक गाँव में एक बहुत लालची दूधवाला रहता था| वो गाँव में घर-घर जाकर दूध बेचा करता था|

वह रोज़ अपनी साइकल पर नदी का पुल पार करके गाँव वालों को दूध बेचने जाता था|

वह हमेशा दूध में दूध कम और पानी ज्यादा मिलाता था|

इसी तरह दूध में पानी मिलाकर वह रोज़ गाँव वालो को ठगता रहता था|

दूध में पानी मिलाने की वजह से वह जल्द ही आमिर हो गया था|

एक दिन वह अपने दूध का पैसा गाँव वालों से लेकर जब वापस आरहा था,

तभी उसकी साइकल नदी के पुल पर फिसल गइ, और उसका सारा पैसा नदी में गिर गया|

यह देखकर दूधवाला बहुत दुखी हुआ और रोने लगा|

तभी नदी में से एक आवाज़ आई की रोते क्यों हो, जो भी तुमने कमाया था,

वह भी बेईमानी से ही तो कमाया था|

 

सिख – “लालच कभी नही करना चाहिए”|

 लालची प्याज वाला

(Hindi Short Stories for Class 1,2,3)

moral-story-in-hindi-for-education
लालची प्याज वाला

एक गाव में राम और श्याम नामक प्याज वाले रहते थे|

राम  बहुत लालची था, जबकि श्याम स्वाभाव का बहुत अच्छा था,और सबकी मदत करता था|

दोनों प्याज का व्यापार साथ मे करते थे|

राम और श्याम किसानो से प्याज कम भाव में लेते थे और बाज़ार में दाम बढाकर भेचते थे|

पर राम हमेशा प्याज का दाम अधिक बढ़ाकर बेचा करता था ताकि उसे ज्यादा फ़ायदा हो|

राम बहोत खुश होता है पर श्याम उसे समझाने लगता है की,

इतना लालच नही कारना चाहिए परन्तु राम उसके बातो पर ध्यान नहीं देता|

दुसरे दिन खबर आती है की प्याज के भाव गिर गए है,

राम अपने प्याज कम दाम में बेचना नहीं चाहता था|

तो उसने सोचा क्यू ना मैं सारे प्याज खरीद लू जब दाम बढ़ेंगे तब किसी के पास प्याज नहीं होंगे,

और मैं प्याज को 5 गुना भाव में बेचूंगा| राम ने किसानो से सारे प्याज़ ले लिए

श्याम ने उसे इस हरकत के बारे में पुछा तो राम ने श्याम को कुछ नहीं बताया,

वो सारे पैसे खुद रखना चाहता था|राम ने अपने घर में सारे प्याज रख दिए|

हफ्ते हुए, महीने हुए पर प्याज के दाम बढ़ने का नाम ही नहीं ले रहे थे|

धीरे-धीरे प्याज खराब हो रहे थे परन्तु राम को लालच के आगे कुछ नहीं दिख् रहा था|

3 महीने बाद दाम कम हुए पर अब तक प्याज पुरे ख़राब हो चुके थे,

और कोई प्याज नहीं ले रहा था, जिसके कारण राम को बहुत बड़ा नुक्सान हुआ|

वो रोने लगा और उसे एहसास हुआ की श्याम सही था और लालच बुरी बात है|

 

सीख – “लालच बुरी बला है”|

Hindi Short Stories for Class 1,2,3

हमारा उद्देश है की आप के बच्चो को हमारी कहानियों के माध्यम से कुछ नया सिखने को मिले|हमें आशा है की आपको हमारी कहानिया अच्छे लगी होंगी (Hindi Short Stories),

कमेंट करके जरुर बताये की आपको ये कहानिया कैसी लगी,और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें|अपने बच्चो के लिए और मज़ेदार कहानियों को पढने के लिए हमारा दूसरा पोस्ट जरुर पढ़े|

For more post please visit our:

 

Leave a Comment